Aaj ki taza khabar: पाकिस्तान से राजस्थान में आए किसानों के दुश्मन टिड्डे, बर्बाद कर दी सैकड़ों बीघा फसल

Locust Attack: राजस्थान में पाकिस्तान की ओर से किसानों के दुश्मन टिड्डियों ने हमला कर दिया है. जिससे किसानों को भारी नुकसान हुआ है. बताया जा रहा है कि टिड्डियों के कई दल पाकिस्तान से लगी राजस्थान की सीमा में घुस आए हैं. जिन्होंने अजमेर और आसपार के इलाकों की फसल बर्बाद कर दी है. जिससे किसान काफी परेशान हैं. हालांकि प्रशासन किसानों की इन परेशानिकों को दूसर करने के लिए तमाम कोशिशें कर रहा है जिससे फसलों को बर्बाद होने से बचाया जा सके. जानकारी के मुताबिक, टिड्डियों के दल ने अजमेर में करीब पांच फीसदी फसल बर्बाद कर दी है.

ये भी पढें: 20 साल के भीतर चीन से आई 5 महामारी…. इसे रोकना तो होगा: अमेरिका

राजस्थान कृषि विभाग के उप निदेशक वीके शर्मा (VK Sharma) का कहना है कि, अजमेर जिले में टिड्डियों के दल ने धावा बोल दिया है. टिड्डियों के दल ने नागौर (Nagaur) से जिले में प्रवेश किया है. हमने कीटनाशक (Pesticides) का छिड़काव करने के लिए अग्निशमन विभाग की मदद ली. वीके शर्मा ने दावा किया कि इस संकट से प्रभावी ढंग से नियंत्रित करने में सक्षम है. उनका कहना है कि टिड्डियों ने अब तक फसलों को 3 से 5 फीसदी नुकसान पहुंचाया है.

loading...

 

बता दें कि इससे पहले टिड्डियों ने पाकिस्तान में भी भारी तबाही मचाई थी. उसके बाद पिछले साल टिड्डियों के दल ने राजस्थान और गुजरात में फसलों पर हमला कर दिया था. उसके बाद सैकड़ों बीघा फसल बर्बाद हो गई. बता दें कि टिड्डियों का झुंड राजस्थान में आने वाली हवा या रेगिस्तानी तूफान की मदद से भारत में पाकिस्तान की ओर से घुसपैठ करते है. हर साल पाकिस्तान से भारत में टिड्डियों की घुसपैठ का कोई ना कोई मामला सामने आता रहता है. हजारों-लाखों टिड्डियों का झुंड घुसपैठ करके देश की सीमावर्ती क्षेत्रो में किसानों की फसलों को बर्बाद कर देता है.

ये भी पढें: PM मोदी के भाषण से मिले संकेत… 17 मई के बाद भी जारी रहेगा लॉकडाउन , पर नए रूप में दिखेगा देश

जानकारों का कहना है कि टिड्डी दल लाखों-करोड़ों की संख्या में आते हैं और एक ही रात में सब फसल को चट कर जाते है. उनका कहना है कि एक वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करने वाला टिड्डियों का झुंड एक दिन में 35,000 लोगों का भोजन खा सकता है. बता दें कि टिड्डियों का पनपना पूरी तरह से प्राकृति से जुड़ा हुआ है और इनकी संख्या, प्रकोप का क्षेत्र, मौसम और पर्यावरण पर निर्भर करता है.

loading…