बडी खबर: चूहों से फैलने वाली जानलेवा बीमारी का हुआ खुलासा, 11 मामले आए सामने

नई दिल्ली। दुनिया अभी कोरोना महामारी से उबरी भी नहीं है कि होंगकोंग से एक और जानलेवा बीमारी सामने आ गई है। इस बीमारी के 11 मामले अब तक सामने आ चुके हैं। इस बारे में होंगकोंग की सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले सेंटर फॉर हेल्थ प्रोटेक्शन ने इस मामले की जांच को आगे बढ़ाया है। सीएचपी की माने तो अप्रैल के अंत में एक शख्स की रैट हेपेटाइटिस ई वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की गई थी। इसके बाद से ही होंग कोंग में 11 लोगों को इससे संक्रमित पाया गया है।

बडा खुलासा…. सिगरेट के मुकाबले ज्यादा जानलेवा है हुक्का, जानिए कैसे

इस बारे में बताया गया कि होंगकोंग के एक अस्पताल में एक 61 साल के व्यक्ति को एडमिट किया गया था। कुछ दिनों के बाद पता चला कि उसके लीवर में प्रॉब्लम है। इसके बाद उन्हें दूसरे अस्पताल में भेज दिया गया लेकिन जब उनकी ब्लड रिपोर्ट आई तो उसमें पता चला कि वो व्यक्ति रैट एचइवी से ग्रस्त है।

देश में कोरोना प्रकोप जारी संक्रमितों की संख्या  चीन के करीब

इसके बाद जांच शुरू की गई कि आखिर ये बीमारी उन्हें किस तरह से लगी। इसके लिए उनके घर जाकर जानकारी ली गई लेकिन वहां से कोई भी सबूत नहीं मिला। इसके बाद उनकी हिस्ट्री भी चेक की गई लेकिन उसमें भी ऐसा कुछ नही मिला। इतना ही नहीं उस मरीज के संपर्क में आए लोगों की भी स्क्रीनिंग की गई लेकिन कुछ भी सामने न आ सका।

loading...

इस बारे में विभाग को कोई जानकारी नहीं मिल सकी लेकिन अभी भी जांच जारी है। बताया जाता है इस बीमारी का सबसे पहला मामला 2018 में सामने आया था। तब होंगकोंग में 56 साल के एक मरीज में अजीब मेडिकल रेस्पोंस मिल रहे थे। इस मरीज के टेस्ट कराये गये तो पता चला कि उस मरीज का इम्यून सिस्टम हेपेटाइटिस-इ होने के संकेत दे रहा था लेकिन इसके बाद भी डॉक्टरों को उसके शरीर से एचइवी होने के संकेत नही मिले।

 कक्षा 1 से 10 तक के लिए सीबीएसई का निर्देश, स्कूल शुरू करें…..

यहां आपको ये बता दें कि हेपेटाइटिस-इ लीवर से जुड़ी बीमारी है जिसमें मरीज को बुखार के साथ पीलिया भी हो जाता है। ये वायरस चार तरह का होता है जो अलग अलग जीवों में पाया जा सकता है।

दरअसल, साल 2018 तक डॉक्टर समझ रहे थे कि चार प्रकार के इस वायरस में से सिर्फ एक ही प्रकार का वायरस, हेपेटाइटिस-इ से इंसान बीमार हो सकता है लेकिन जब उन्हें चूहे से होने वाले हेपेटाइटिस E का पता लगा तो उन्होंने इसके टेस्ट करने की प्रकिया में परिवर्तन किया और तब जाकर डॉक्टरों ने पाया कि इंसान में भी हेपेटाइटिस-इ हो सकता है।

बन गई कोरोना की वैक्सीन, लोगों को जल्‍द दी जाएगी खुराक

इस बारे में विशेषज्ञों का कहना है कि हम समझ ही नहीं पाए हो सकता है उस वक्त और भी केस रहे हों इस बीमारी के। यह सब इतना असामान्य लगा कि हम यकीन नहीं कर पाए। अब हमारे पास एक ऐसा वायरस है जो सड़क के चूहों से इंसान में फैल सकता है।

loading…