देश ‘अनलॉक’, इन राज्यों ने अभी बंद रखे दरवाजे!

नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने 1 जून से लॉकडाउन में काफी हद तक ढील दी है। इसे अनलॉक-1 नाम दिया गया है। इसी के साथ कई राज्यों ने भी दूसरे राज्यों से आने-जाने वाले लोगों के लिए दरवाजे खोल दिए हैं और अंतरराज्यीय (इंटर-स्टेट) परिवहन को मंजूरी दे दी है। हालांकि लगातार बढ़ते कोरोना के मामलों को देखते हुए महाराष्ट्र और तमिलनाडु ने इसकी मंजूरी नहीं दी है। इनके अलावा पूर्वोत्तर के कुछ राज्यों ने 31 मई के बाद भी अंतरराज्यीय यात्रा पर प्रतिबंध जारी रखने का फैसला किया है।

महाराष्ट्र और तमिलनाडु में कोरोना वायरस के मामलों की संख्या देश में सबसे ज्यादा है। राजस्थान और तेलंगाना जैसे राज्यों ने घोषणा की है कि वे ‘अनलॉक-1’ के तहत ढील दिए जाने के तौर पर अंतरराज्यीय आवाजाही की अनुमति देंगे। कोरोना वायरस से निपटने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के चलते देशभर में लगभग दो महीने से इस तरह का यात्रा प्रतिबंध लगा हुआ है।

उधर कर्नाटक सरकार ने कंटेनमेंट जोन को छोड़कर लॉकडाउन में छूट देने का रास्ता साफ करते हुए राज्य के अंदर और अंतरराज्यीय आवाजाही पर लगी रोक हटा दी। उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि अंतरराज्यीय यात्रा पर कोई प्रतिबंध नहीं है, लेकिन दिल्ली से सटे लोगों की आवाजाही पर फैसला गाजियाबाद और नोएडा के जिला प्रशासनों पर छोड़ दिया गया है। हालांकि राज्य ने अपनी अंतरराज्यीय बस सेवा को फिर से शुरू नहीं किया है।

पश्चिम बंगाल, गुजरात और कई अन्य राज्यों की सरकारों को अभी इस मुद्दे पर फैसला लेना है। गृह मंत्रालय ने शनिवार को ‘अनलॉक 1’ के तहत पाबंदियों को हटाने की घोषणा की थी। महाराष्ट्र सरकार ने कहा, ‘फंसे हुए प्रवासी श्रमिकों जैसे व्यक्तियों की अंतरराज्यीय और अंतर-जिला आवाजाही को जारी रखा जाएगा।’ महाराष्ट्र में लॉकडाउन की अवधि को 30 जून तक बढ़ाया है। महाराष्ट्र सरकार ने कहा कि चिकित्सा पेशेवरों, स्वच्छताकर्मियों और एम्बुलेंसों के लिए अंतरराज्यीय आवाजाही की अनुमति दी गई है।

पूर्वोत्तर में मेघालय और मिजोरम ने भी नहीं दी छूट
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ई. पलानीस्वामी ने कहा कि अंतरराज्यीय बस परिवहन, मेट्रो और सबअर्बन ट्रेन सेवाओं पर प्रतिबंध जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि अंतर-क्षेत्र और अंतरराज्यीय यात्रा के लिए ई-पास जरूरी होगा। पूर्वोत्तर राज्यों में मेघालय ने लॉकडाउन की अवधि को छह जून तक बढ़ा दिया है और वाहनों की अंतर-जिला और अंतरराज्यीय आवाजाही पर प्रतिबंध जारी रखा है। मिजोरम सरकार ने भी कहा कि यात्रियों को ले जाने वाले वाहनों की सभी अंतरराज्यीय या सीमा-पार आवाजाही प्रतिबंधित रहेंगी। मेघालय में कोरोना वायरस के 27 जबकि मिजोरम में एक मामला सामने आया है।

एनसीआर के शहरों में आवाजाही के पक्ष में दिल्ली सरकार
दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन दिल्ली सरकार के अधिकारियों का कहना है कि नोएडा, गाजियाबाद, गुरुग्राम और अन्य एनसीआर शहरों से लोगों की अंतरराज्यीय आवाजाही के वह पक्ष में हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश और हरियाणा में अधिकारियों ने कोविड-19 के मामले बढ़ने का हवाला देते हुए राष्ट्रीय राजधानी से प्रवेश पर रोक लगाई हुई है। उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आर के तिवारी ने रविवार को नए दिशानिर्देश जारी करते हुए कहा कि लोगों और वस्तुओं की अंतरराज्यीय और राज्य के भीतर आवाजाही पर कोई प्रतिबंध नहीं है। हालांकि अंतरराज्यीय बस सेवाओं का संचालन सरकार अभी नहीं करेगी।

loading…