गुजरात-महाराष्ट्र में आ रहा तूफान, शाह ने की बैठक

मुंबई/अहमदाबाद. देश के पूर्वी राज्य ओडिशा और पश्चिम बंगाल अभी ‘अम्फान’ चक्रवात के दर्द से उबरे नहीं हैं। दूसरी तरफ एक और चक्रवात ‘निसर्ग’ पश्चिमी राज्यों गुजरात और महाराष्ट्र की ओर मुंह बाए बढ़ रहा है। ‘निसर्ग’ 3 जून को गुजरात और महाराष्ट्र के तट पर पहुंचेगा। इससे पहले तैयारियों के लिए केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सोमवार को नैशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (एनडीएमए) के अधिकारियों के साथ हाई लेवल मीटिंग की।

दूसरी तरफ नैशनल डिजास्टर रेस्पॉन्स फोर्स (एनडीआरएफ) ने भी तूफान की आशंका देखते हुए अपनी कमर कस ली है। महाराष्ट्र में एनडीएफ की कुल नौ टीमें तैनात कर दी गई हैं। इसमें से तीन टीम मुंबई में, दो पालघर में और एक-एक टीम ठाणे, रायगड़, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग में तैनात की गई हैं। एनडीआरएफ की टीमें महाराष्ट्र सरकार, मौसम विभाग और जिलों के प्रशासन से लगातार संपर्क में हैं।

एनडीआरएफ की टीमें जिन जिलों में तैनात की गई हैं, वहां के प्रशासन के साथ मिलकर सर्वे का काम कर रही हैं। कोरोना काल के समय चक्रवात आने से आपदा प्रबंधन संस्थाओं के साथ-साथ राज्य और केंद्र सरकार की चुनौती भी दोगुनी हो गई है। ‘निसर्ग’ के बारे में एनडीआरएफ टीमों को जानकारी दे दी गई है और उन्हें ट्रेनिंग के अलावा जरूरी साजो-सामान भी उपलब्ध कराए गए हैं।

एनडीआरएफ की ओर से बताया गया कि चक्रवात से बेहतर तरीके से निपटने के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर को अपग्रेड किया गया है। अगर स्थानीय प्रशासन को किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो उस स्थिति में भी एनडीआरएफ की टीमें मदद करने को तैयार हैं।

मौसम विभाग ने सोमवार को अपने दैनिक बुलेटिन में बताया कि अरब सागर में दो तूफान बन रहे हैं। इनमें से एक अफ्रीकन तट से ओमान और यमन की ओर चला जाएगा जबकि दूसरा तूफान भारत के करीब तैयार हो रहा है। विभाग के मुताबिक, अरब सागर के साउथ ईस्ट-ईस्ट-सेंट्रल क्षेत्र में अगले 48 घंटों में लो-प्रेशर एरिया बन रहा है। अगले 48 घंटों में इसकी तीव्रता बढ़ने के आसार हैं। उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ते हुए यह तूफान 3 जून तक गुजरात और उत्तरी महाराष्ट्र के तटों को हिट करेगा।

loading…