ममता पर हमले के बहाने पीएम मोदी का बड़ा सियासी दांव, दिया ध्रुवीकरण का संदेश

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के तीन चरणों का मतदान समाप्त हो चुका है जबकि पांच चरण और बाकी हैं। जिन सीटों पर मतदान होना बाकी है, वहां भाजपा ने पूरी ताकत लगा दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा की चुनावी संभावनाओं को मजबूत बनाने के लिए बुधवार को फिर पश्चिम बंगाल पहुंचे। कूचबिहार की जनसभा में मोदी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बड़ा हमला बोला। मुस्लिमों से एकजुट होकर मतदान करने की ममता की अपील का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा यदि हमने हिंदुओं से एकजुट होने को कहा होता तो बवाल मच गया होता। हमें चुनाव आयोग के 8-10 नोटिस मिल चुके होते। पूरे देश में हमारे खिलाफ संपादकीय लिखे जाते मगर दीदी की अपील पर किसी को कोई फर्क ही नहीं पड़ा। जानकारों का मानना है कि ममता को घेरने के बहाने मोदी ने ध्रुवीकरण का बड़ा संदेश भी दे दिया है।

दीदी को आदरणीया कहकर तीखे सवाल
अपनी पूर्व की जनसभाओं की तरह बुधवार को पश्चिम बंगाल में कूचबिहार और हावड़ा की जनसभाओं में पीएम मोदी का आक्रामक अंदाज दिखा। पीएम मोदी अपनी जनसभाओं में ममता को दीदी ओ दीदी कहकर तंज कसते रहे हैं और उनके इस तंज पर खूब तालियां बजती हैं। टीएमसी की ओर से पीएम के तंज पर गहरी आपत्ति भी जताई जा चुकी है। तृणमूल कांग्रेस ने इसे ममता बनर्जी और पश्चिम बंगाल की महिलाओं का अपमान बताया है। ममता की हर बात को अपना हथियार बना रहे पीएम मोदी ने कूचबिहार की जनसभा में ममता बनर्जी को आदरणीया दीदी कहकर कई तीखे सवाल किए और कहा कि वे निश्चित रूप से चुनाव हार रही हैं।

हमने कहा होता तो कई नोटिस मिल जाते
पीएम मोदी ने कहा कि आदरणीया दीदी, अभी हाल ही में आपने कहा कि सभी मुसलमानों एक हो जाओ और अपना वोट मत बंटने दो। आपके इस बयान से साफ है कि आपको यकीन हो गया है कि मुस्लिम वोट बैंक भी आपके हाथ से निकल चुका है। आपको सार्वजनिक रूप से मुसलमानों से एकजुट होने की अपील करनी पड़ी है। इससे साफ है कि आप चुनाव हार चुकी हैं। उन्होंने कहा कि वैसे तो दीदी आप चुनाव आयोग को रोज गालियां देती हैं, लेकिन अगर हमने यह बात कही होती कि सारे हिंदुओं एकजुट हो जाओ, भाजपा को वोट दो तो हमें चुनाव आयोग के 8-10 नोटिस मिल चुके होते। सारे देश में में हमारे खिलाफ एडिटोरियल लिखे जाते।

ममता पर हमले के बहाने बड़ा संदेश
सियासी जानकारों का मानना है कि मोदी ने इशारों-इशारों में बड़ी बात कह डाली। उन्होंने लोगों को यह बताने की कोशिश की कि ममता मुस्लिमों से एकजुट हो जाने की अपील कर रही हैं और फिर हमला करते हुए यहां तक कह दिया कि हम भी हिंदुओं से एकजुट हो जाने की अपील कर सकते हैं मगर ऐसा नहीं कर रहे हैं। उन्होंने अपनी बात को इस ढंग से सबके सामने रखा जिससे सांप भी मर गया और लाठी भी नहीं टूटी। उन्होंने ममता पर हमले के बहाने बंगाल के लोगों को ध्रुवीकरण का बड़ा संदेश भी दे दिया।

देश की सेवा में लगी है भाजपा
प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले दो चरणों में बड़ी संख्या में लोग वोट देने के लिए घरों से बाहर निकले हैं और लंबी-लंबी लाइनें लगाकर भाजपा को भारी समर्थन दिया है। बंगाल में भाजपा की ऐसी लहर दिख रही है जिसने दीदी के गुंडों और दीदी के भय को पूरी तरह किनारे लगा दिया है। उन्होंने कहा कि मुझे पता चला है कि दीदी आजकल कह रही हैं कि क्या भाजपा और प्रधानमंत्री भगवान हो गए हैं जो उन्हें इस बात की जानकारी हो गई है कि बीजेपी को बड़ी जीत मिलने वाली है। उन्होंने कहा कि आदरणीया दीदी हम लोग तो मामूली इंसान हैं और ईश्वर की आज्ञा और आशीर्वाद से ही देश की सेवा में लगे हैं।

नंदीग्राम ही नहीं, नंदी भी है नाराज
कूचबिहार और हावड़ा की रैलियों में प्रधानमंत्री के निशाने पर ममता बनर्जी ही थीं। उन्होंने कहा कि बंगाल और नंदीग्राम ही नहीं ममता से नंदी भी नाराज हैं। दरअसल पीएम मोदी का इशारा ममता बनर्जी के हावड़ा में हुए रोडशो की ओर था जिसमें एक मवेशी घुस आया था। उन्होंने कहा कि इस बार बंगाल की जनता ममता बनर्जी के पिछले 10 साल के धोखे का जवाब देने में लगी हुई है। हालत यह हो गई है कि ममता की पार्टी को पोलिंग बूथों पर एजेंट तक नहीं मिल रहे हैं।

टीएमसी में बड़ी फूट की भविष्यवाणी
प्रधानमंत्री ने दो मई के बाद टीएमसी में बड़ी फूट होने की भी भविष्यवाणी की। उन्होंने कहा कि टीएमसी के नेताओं में जबर्दस्त रोष है और ममता बनर्जी की हार के बाद टीएमसी बंट जाएगी। भाजपा बंगाल में असल परिवर्तन की कोशिश में जुटी हुई है और बंगाल में भाजपा की जीत के बाद बीजेपी की डबल इंजन की सरकार विकास के कामों को तेज गति के साथ शुरू करेगी।

Special for You