कहीं और नहीं बल्कि जमीन के नीचे ही है नर्क का दरवाजा, वैज्ञानिकों को भी मिले सबूत

नई दिल्ली: अपने कभी ना कभी तो ये जरूर सुना या सोचा होगा की जिस नर्क में जाने का जिक्र लोग अक्सर करते रहते हैं वो असल में होता कहाँ है। हमारी इस विशाल पृथ्वी के भू गर्भ के नीचे तो कहीं वो नर्क नहीं है। अब सवाल ये उठता है की क्या किसी ने कभी धरती के नीचे गड्ढा कर के देखने की कोशिश की आखिर इसके नीचे क्या है, नर्क है या है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं पृथ्वी पर खोदे गए कुछ बहुत ही गहरे और भयानक गड्ढों के बार में जिसके बारे में ये कहा जाता है की अगर नर्क होगा तो यहीं होगा।

आपको जानकर आश्चर्य होगा की दुनिया में ऐसे भी खतरनाक और गहरे गड्ढे हैं जिसके गहराई क आप अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते। ये गड्ढे कुछ तो प्रकृति के बनाये हुए हैं और कुछ इंसानों के, लेकिन ये इतने भयानक हैं की देखने वालों को रूख तक काँप उठे। अगर हम पृथ्वी अपर बने आजतक के सबसे गहरे गड्ढों की बात करें तो रूस के कोला सुपरडीप का नाम आता है समुद्र के निचले हिस्से से भी ज्यादा गहरा है, ये लगभग 12 किलोमीटर गहरा है।

इसके बाद आता है प्रशांत महासागर में स्थित मारियाना ट्रंच जो धरती से लगभग 11 किलोमीटर नीचे खोदा गया है। मारियाना ट्रंच इंसानो द्वारा खोदा गया गड्ढा है जिसकी खुदाई तब रोक दी गयी जब नीचे 180 डिग्री तापमान होने के सबूत मिले और अंदाज़ा लगाया गया की नीचे नर्क भी हो सकता है।

जी हाँ मरियाना ट्रंच की खुदाई के दौरान वैज्ञानिकों को जमीन के अंदर से कुछ ऐसी चीखनें चिल्लाने की आवाज़ें सुनाई दी जिसे सुनकर जिसे सुनने के बाद खुदाई को रोक दिया गया। वहां मौजूद लोगों का मानना है की खुदाई के वक़्त ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो अगर एक बार और खुदाई की गयी तो सीधे नर्क में पहुंच जाएंगे। इसके बाद ही इस प्रोजेक्ट को रातों रात बंद कर दिया गया, माना जाता ही की वहां से और भी कई रहस्य्मयी बातों का पता चला था जिसे आजतक दुनिया के सामने उजागर है किया गया।

Special for You