अभी-अभी: रूस ने दिया कोरोना वैक्सीन पर भारत को बडा झटका, नहीं मिलेगी…

नई दिल्ली: रूस ने भले ही वैक्सीन बना ली हो लेकिन रूस के बाहर सबके लिए इसकी उपलब्धता अभी निकट भविष्य में नहीं होने वाली। वैक्सीन का प्रोडक्शन तुरंत शुरू होने की संभवना है। गमालेया इंस्टिट्यूट के अलावा इस वैक्सीन का प्रोडक्शन रूस के एक बड़े बिजनेस हाउस सिस्टेमा द्वारा किये जाने की उम्मीद है। सिस्टेमा ने एक बयान में कहा है कि वैक्सीन का पहला बैच तैयार है और इनको सबसे पहले रूसी प्रान्तों में भेजा जायेगा और डाक्टरों और स्वास्थ्य कर्मियों को इसकी खुराक दी जायेगी।
भारत में नहीं मिलेगी जल्द रूसी वैक्सीन
सिस्टेमा की क्षमता साल भर में 15 लाख खुराक बनाने की है जो दुनिया में तत्काल अरबों खुराक की मांग के सामने कुछ भी नहीं है। ऐसे में रूस द्वारा अन्य देशों की मांग को पूरा किया जाना बेहद मुश्किल है। हालाँकि रूस का कहना है कि उसने 50 करोड़ खुराक बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय करार किये हुए हैं। रूस के अनुसार उसे विदेशों से एक अरब खुराक सप्लाई के आग्रह प्राप्त हुए हैं।

अगर रूस वैक्सीन की खुराक बनाए की क्षमता को बहुत बढ़ा भी देता है तब भी भारत में इसकी उपलब्धता होने में काफी समय लग जाएगा। भारत में वैक्सीन के प्रयोग की मंजूरी दो तरह से होती है। भारत के नियामक सिस्टम के तहत किसी भी अन्य देश में डेवलप की गयी कोई भी दवा या वैक्सीन को भारत में इस्तेमाल की अनुमति दिए जाने से पहले स्थानीय जनता पर एडवांस चरण के मानव ट्रायल होना जरूरी है। ऐसा इसलिए कि किसी भी वैक्सीन का अलग अलग जनसमूहों पर अलग अलग इम्यून रिस्पांस होता है।

इसका मतलब ये हुआ कि रूसी डेवलपर्स या भारत में उनके पार्टनर्स को भारत में वालंटियर्स पर दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल करने होंगे। ये प्रक्रिया हाल में ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी और आस्ट्रा ज़ेनेका द्वारा डेवलप की गयी वैक्सीन पर भारत में अपनाई गयी थी। पुणे स्थित सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंडिया का इस वैक्सीन के निर्माण के लिए डेवलपर्स के साथ करार हुआ है। सीरम इंस्टिट्यूट को हाल ही में नियामक संस्था से दूसरे और तीसरे चरण के मानव ट्रायल करने की इजाजत मिली है। अगर ये टेस्ट संतोषजनक होते हैं तभी ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन के भारतीय लोगों पर इस्तेमाल की अनुमति दी जायेगी।

रूसी वैक्सीन की बात करें तो अगर सुपर फ़ास्ट गति से भी काम हो तो भारत में दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल में कम से कम दो-तीन महीने लग जायेंगे। इसके पहले तो किसी दवा कंपनी को नियामक संस्था के पार आवेदन करना होगा और फिलहाल किसी ने अभी आवेदन नहीं किया है।

रूस के गामालेया इंस्टीट्यूट और रक्षा मंत्रालय की साझेदारी में तैयार की गई इस वैक्सीन को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। दरअसल, इस वैक्सीन का इंसानी ट्रायल अभी तक पूरा नहीं हुआ है और उससे पहले ही इसे इस्तेमाल की मंजूरी मिल गई है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वैक्सीन की प्रक्रिया में तेजी बरतने के लिए रूस को चेताया भी था। अमेरिकी विशेषज्ञ डॉक्टर एंथनी फाउची भी तेजी को लेकर चिंता व्यक्त कर चुके हैं।

एडेनोवायरस के डीएनए पर आधारित
रूस की वैक्सीन सार्स कोव-2 जैसे सामान्य सर्दी जुकाम फैलाने वाले एडेनोवायरस के डीएनए पर आधारित है। यह वैक्सीन वायरस के छोटे-छोटे हिस्से को इस्तेमाल कर शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है।

वैक्सीन तैयार करने वाले गामालेया इंस्टीट्यूट के निदेशक एलेक्जेंडर गिंत्सबर्ग ने कहा है कि वैक्सीन में मौजूदा कोरोना वायरस शरीर में जाने पर बढ़ते नहीं हैं जिससे इंसानी शरीर को किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होता।

ट्रायल के नतीजे
अभी तक रूस ने इस वैक्सीन के इंसानी ट्रायल के सिर्फ पहले चरण के नतीजे जारी किए हैं। इनमें दावा किया गया है कि यह वैक्सीन रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करती है। जुलाई में रूस के रक्षा मंत्रालय ने दावा किया कि ट्रायल में भाग लेने वाले किसी भी वॉलेंटियर ने वैक्सीन को लेकर कोई शिकायत नहीं की है और उनमें इसका कोई साइड इफेक्ट नहीं देखा गया है। ट्रायल का पहला चरण जून में शुरू हुआ था।

ट्रायल के पहले चरण में शामिल 76 वॉलेंटियर में से अधिकतर रूसी सेना का हिस्सा हैं। इनमें से आधों को इंजेक्शन दिया गया और बाकियों को पानी में घुल सकने वाले पाउडर के रूप में वैक्सीन दी गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, वैक्सीन के दूसरे चरण के ट्रायल 13 जुलाई को शुरू हुए थे। इस महीने की शुरुआत में रूसी मीडिया में खबरें आईं कि गामालेया इंस्टीट्यूट ने इंसानी ट्रायल पूरा कर लिया है। हालांकि, इन रिपोर्ट्स में यह नहीं बताया गया था कि क्या इंसानी ट्रायल के तीनों चरण पूरे हो चुके हैं या सिर्फ दूसरा चरण पूरा हुआ है। आमतौर पर तीसरा चरण पूरा होने में कई महीनों का समय लगता है।

रूस की उप प्रधानमंत्री तातयाना गोलिकोवा ने कहा है कि सितंबर तक इस वैक्सीन का औद्योगिक उत्पादन शुरू हो जाएगा। वहीं रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि मेडिकल कर्मियों को इस महीने वैक्सीन की खुराक दी जा सकती है और अक्टूबर में बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन अभियान चलाया जाएगा। इसके तहत सबसे पहले ड

Special for You