क्या बहस ने ली राजीव त्यागी की जान? डॉक्टरों ने दिया यह जवाब

गाजियाबाद: कांग्रेस के जाने-माने प्रवक्ता राजीव त्यागी की बुधवार को हार्टअटैक से मौत हो गई। घर पर हार्टअटैक पड़ने के बाद उन्हें परिवारवाले कौशांबी के यशोदा हॉस्पिटल ले गए। वहां डॉक्टरों ने उन्हें करीब 45 मिनट तक बचाने की कोशिश की, लेकिन वे नाकाम रहे।
यशोदा हॉस्पिटल के डॉक्टर के मुताबिक, राजीव त्यागी डीबेट के दौरान ही अचानक कोलाप्स कर गए थे। राजीव त्यागी को अचेत देखकर उनके घरवालों ने पहले उन्हें कार्डियक मसाज और सीपीआर दिया। इसके बाद करीब 6:30 बजे उन्हें हॉस्पिटल लाया गया। जब वह हॉस्पिटल पहुंचे तो वह अचेत थे और रिस्पॉन्ड नहीं कर रहे थे। बीपी और पल्स भी नहीं था। इसके बाद हमने अपने अडवांस कार्डियक लाइफ केयर प्रोटोकॉल के तहत उनका इलाज शुरू किया। उन्हें वेंटिलेटर पर लिया और 45 मिनट तक सीपीआर, इंजेक्शन और लाइफ सेविंग ड्रग्स दी। इसके बावजूद वह नहीं बच पाए।

त्यागी के परिवार में पत्नी और दो बेटे
बता दें कि मौत से पहले राजीव त्यागी शाम पांच बजे राजीव एक निजी चैनल की डिबेट में अपने घर से ही ऑनलाइन शामिल हुए थे। डिबेट के दौरान राजीव बार-बार अपने सीने पर हाथ रख रहे थे और पानी पी रहे थे। राजीव के बहनोई दीपक त्यागी ने बताया कि आपात जांच के लिए नजदीकी डॉक्टर को बुलाया गया, लेकिन जब सभी प्रयास नाकाम हो गए तो उन्हें यशोदा अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। त्यागी के परिवार में पत्नी और दो बेटे हैं।

TV बहस बाद त्यागी की मौत, निशाने पर पात्रा

केन्द्रीय मंत्रियों ने जताया दुख
केन्द्रीय मंत्रियों गजेन्द्र सिंह शेखावत और रामविलास पासवान तथा बीजेपी नेताओं ने त्यागी के निधन पर शोक व्यक्त किया है। बीजेपी सांसद तथा पार्टी के मीडिया विभाग के प्रमुख अनिल बलूनी ने त्यागी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि वह मिलनसार और भावनात्मक व्यक्ति थे। केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने ट्वीट किया, ‘कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी जी के आकस्मिक निधन की खबर सुनकर मैं स्तब्ध हूं। ईश्वर दिवंगत आत्मा को शांति दें और परिवार को इस असहनीय पीड़ा को सहन करने का संबल प्रदान करें। ॐ शांति।।’ एक और केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने ट्वीट किया, ‘कांग्रेस के प्रवक्ता राजीव त्यागी का दिल का दौरा पड़ने से निधन स्तब्ध कर देने वाली घटना है। ईश्वर उनकी आत्मा को अपनी शरण में लें और उनके परिवार को यह आकस्मिक दुख सहने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति’

Special for You