जानिए, आखिर क्यों मर्दों बनना चाहते है घोड़ों की तरह ?

अक्सर हमने यह देखा और सुना है की मर्दों की तुलना हमेशा से ही घोड़ों से की जाती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इसके पीछे क्या कारण है। इसका प्रमुख कारण होता है घोड़े की शक्ति, और दर्द को बर्दाश्त करने की क्षमता। मर्दों और घोड़ों में और भी काफी सारी समानताएं होती हैं जिनकी वजह से उन्हे हमेशा घोड़ा बनने की सलाह दी जाती है। तो आइये जानते है मर्दो और घोड़ों की ये ख़ास बाते –

सहन क्षमता – दरअसल घोड़ों में मर्दों के उकाबले दर्द को सहने की क्षमता तीन गुना ज़्यादा होती है। घोड़े की शक्ति की अगर बात की जाए तो घोडा बिना किसी तरह की थकावट के पूरे 23 घंटों तक अपनी पीठ पर भर उठा सकता है। घोड़े की यह खूबी हर कोई घर के मर्द में देखना चाहता है।

काम करने की क्षमता – घोड़े की खासियत यह है कि वह खड़े होकर ही अपनी नींद पूरी कर लेता है, लेकिन अगर घोड़ा बैठ जाएं तो समझ लीजिए कि वह काफी बीमार है। ठीक इसी तरह पुरुषों से भी उम्मीद की जाती है कि वह भी ज्यादा से ज्यादा काम करें।

घोड़े की यौन शक्ति – इतना ही नहीं घोड़े की यौन शक्ति दुनिया को अंचभित करती है। ऐसा कहा जाता है कि घोड़ों की संतानें कभी भी बांझ नहीं रहती है। इन वजहों से ही मर्दों को घोड़ा बनाने के लिए प्रेरित किया जाता है और बस इन्हीं सब गुणो की वजह से मर्दों की तुलना गोदे से की जाती है।

Special for You