2 फेरों के बाद बोला वधु पक्ष- रोक दो शादी, दूल्हा और दुल्हन तो हैं भाई-बहन..

शादी विवाह जब तक संपन्न न हो जाए, तब तक उसमें कुछ भी हो सकता है। ऐसा ही कुछ मध्यप्रदेश में हुआ। मध्यप्रदेश में दो फेरो के बाद शादी को कैंसिल कर दी गई और दूल्हे को बिना दुल्हन के बारात वापस लेकर जाना पड़ा। तो चलिए जानते हैं कि हमारे इस लेख में आपके लिए क्या खास है?

मध्यप्रदेश के ग्वालियर के ईसागढ़ के ओड़िला गांव में एक शादी का कार्यक्रम चल रहा था, जिसे परिजनों द्वारा ही बीच में तोड़ दी गई। शादी की तैयारियां दो महीने से चली और फिर बारात भी आई। इतना ही नहीं, बारात आने के बाद भी शादी के लिए दूल्हा और दुल्हन मंडप में बैठे, वहां भी तमाम रस्में हुई, लेकिन सात फेरे पूरे नहीं हो पाए और शादी कैंसिल हो गई। शादी कैंसिल होने के बाद दूल्हा और दुल्हन का परिवार एक दूसरे पर अलग अलग आरोप लगा रहा है।

कन्या पक्ष के मुताबिक, शादी के लिए मंडप सज गया था, जिसमें दूल्हा और दुल्हन आ भी गए थे। शादी की रस्में शुरु हो गई थी, लेकिन यह रस्म सिर्फ दो फेरे तक ही हो पाई। दो फेरे के बाद कन्या पक्ष ने शादी रुकवा दी। कन्या पक्ष का कहना है कि लड़का और लड़की का गोत्र एक है, जिसकी वजह से दोनों भाई बहन हुए, इसीलिए शादी कैंसिल हो गई। कन्या पक्ष ने इस मामले में कहा कि लड़का और लड़की का गौत्र नकटेले है, इसीलिए शादी नहीं हुई।

लड़की पक्ष के तमाम आरोपों को खारिज करते हुए लड़के के घरवालों ने कहा कि हम लोग जीप और बस से बारात लेकर नहीं गए, जिसकी वजह से इन लोगों ने शादी रोक दी। लड़के वाले बारात ट्रक और टैक्टर से लेकर गए थे, जो लड़की वालों को पसंद नहीं आया। शादी कैंसिल होने के बाद पूरा मामला पुलिस स्टेशन जा पहुंचा, जहां मामले की सुनवाई की गई। इतना ही नहीं, शादी कैंसिल करने के बाद लड़की वालों ने सारा दहेज का सामान ट्राली में से उतार लिया।

वर पक्ष का कहना है कि इन लोगों ने पूरी छानबीन की थी, जिसके बाद शादी फिक्स हुई थी, लेकिन बाद में जब इन्होंने जीप में बारात लेकर आने को कहा, तो हमारा बजट नहीं बना, जिसकी वजह से हम बारात ट्रक और टैक्टर पर ही लेकर आए, लेकिन इनका मुंह बन गया। हालांकि, पुलिस इस पूरे मामले की जांच कर रही है और जल्दी ही शांति कायम होगी, लेकिन लड़की वाले इस शादी को करने के लिए राजी नहीं हो रहे हैं।

Special for You