घर की खुदाई में मिले सोने-चांदी से भरे 2 घड़े, छिपाना चाहता था घर का मालिक लेकिन…

नई दिल्ली। खेतों या मकानों में जमीन के अंदर से खजाना निकलने की खबरें आपने अभी तक केवल किस्से-कहानियों में सुनी होंगी। लेकिन, मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में जमीन के नीचे खजाना मिलने की एक सच्ची घटना सामने आई है। मामला उज्जैन के महिदपुर इलाके का है, जहां बुधवार को एक पुराने घर की खुदाई के दौरान मजदूरों को बेशकीमती प्राचीन गहने और सोने-चांदी के सिक्कों से भरे दो घड़े मिले। बताया जा रहा है कि ये सिक्के और गहने करीब 100 साल पुराने हैं।

‘जमीन में गड़े मिले हुए तांबे के दो घड़े’
महिदपुर के तहसीलदार विनोद शर्मा ने मामले की जानकारी देते हुए बताया कि घाटी मोहल्ला इलाके में रहने वाला विजेंद्र दुबे नामक शख्स अपने पुराने घर को तोड़कर नया मकान बना रहा था। इस दौरान बुधवार सुबह जब मजदूर घर की खुदाई कर रहे थे तो अचानक उन्हें जमीन में गड़े हुए तांबे के दो घड़े मिले। घर के मालिक ने खजाना देखकर उसे छिपाने की कोशिश की, लेकिन यह खबर आग की तरह आस-पास फैल गई।

‘मालिक ने दबा दी थी खजाना मिलने की खबर’
इसके बाद पुलिस और प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची और जमीन के अंदर से मिले खजाने को अपने कब्जे में लिया। अधिकारियों ने इस मामले में तीन लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में भी लिया है। तहसीलदार विनोद शर्मा ने बताया कि घर के मालिक ने खजाना मिलने की खबर को पूरी तरह दबा दिया था, लेकिन पुलिस ने तलाशी के दौरान उसके कब्जे से करीब 150 ग्राम के प्राचीन गहने जब्त किए, जो सोने और चांदी से बने हुए हैं।

‘जब्त किए गए गहने पूरे खजाने का केवल एक हिस्सा हैं’
विनोद शर्मा ने आगे बताया कि फिलहाल हमारी टीम गहनों के मेटल की जांच कर रही है। इसके अलावा जमीन के अंदर से मिले सिक्कों को भी कब्जे में लेने के बाद जांच के लिए मुद्रा विज्ञानियों के पास भेज दिया गया है। इसके अलावा सरकार से जानकारी छिपाने के आरोप में विजेंद्र दुबे सहित तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। टीम का मानना है कि जब्त किए गए गहने, पूरे खजाने का केवल एक हिस्सा भर हैं।

मजदूरों को खुदाई करते हुए मिले दो बेशकीमती रत्न
आपको बता दें कि पिछले दिनों तंजानिया में भी एक ऐसा ही मामला सामने आया था, जब एक शख्स को खदान में खुदाई करते वक्त दो बेशकीमती रत्न मिल गए। बहुमूल्य होने के साथ-साथ ये रत्न वजन में भी काफी भारी थे और इनके बदले में उसे बैंक से बेहद मोटी रकम भी मिली। दरअसल सानिनु लाएजर नामक ये शख्स खदान में काम करके अपनी गुजर-बसर करता था। बीते 24 जून को अचानक खुदाई करते समय उसके हाथ दो ऐसे तंजनाइट रत्न लगे, जिन्होंने उसकी किस्मत की चाभी का ताला खोल दिया।

मजदूर को मिले 25 करोड़ 33 लाख रुपए
इनमें से एक रत्न 9.27 किलो और दूसरा रत्न 5.103 किलो का था। इन्हें तंजानिया में अभी तक के सबसे भारी तंजनाइट रत्न बताया गया। गहरे बैंगनी-नीले रंग के ये दोनों रत्न साइज में भी काफी बड़े थे। मजदूर के इन दोनों तंजनाइट रत्नों को बैंक ऑफ तंजानिया ने खरीदा और बदले में लाएजर को 3.35 मिलियन डॉलर यानी करीब 25 करोड़ 33 लाख रुपए का चेक सौंपा।

Special for You